Zindagee ke safar mein guzar jaate ( ज़िन्दगी के सफ़र में गुज़र जाते ) Lyrics

Zindagee ke safar mein guzar jaate Lyrics

Film- Aap ki kasam
Singer- Kishore Kumar
Music Director- R D Burman
Lyricist- Aanand Bakshi

zindagee ke safar mein guzar jaate hain jo makaam
vo phir nahin aate, vo phir nahin aate
zindagee ke safar mein…

phool khilate hain, log milate hain
phool khilate hain, log milate hain magar
patajhad mein jo phool murajha jaate hain
vo bahaaron ke aane se khilate nahin
kuchh log ek roz jo bichhad jaate hain
vo hajaaron ke aane se milate nahin
umr bhar chaahe koee pukaara kare unaka naam
vo phir nahin aate…

aankh dhokha hai, kya bharosa hai
aankh dhokha hai, kya bharosa hai suno
doston shak dostee ka dushman hai
apane dil mein ise ghar banaane na do
kal tadapana pade yaad mein jinakee
rok lo rooth kar unako jaane na do
baad mein pyaar ke chaahe bhejo hajaaron salaam
vo phir nahin aate…

subaho aatee hai, raat jaatee hai
subaho aatee hai, raat jaatee hai yoon hee
vaqt chalata hee rahata hai rukata nahin
ek pal mein ye aage nikal jaata hai
aadamee theek se dekh paata nahin
aur parade pe manzar badal jaata hai
ek baar chale jaate hain jo din-raat, subaho-shaam
vo phir nahin aate…

Zindagee ke safar mein guzar jaate lyrics ( In Hindi )

फिल्म – आप की कसम
गायक- किशोर कुमार
संगीतकार- राहुलदेव बर्मन
गीतकार- आनंद बक्षी

Movie/Album: आप की कसम (1974)
Music By: आर. डी. बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

ज़िन्दगी के सफ़र में गुज़र जाते हैं जो मकाम
वो फिर नहीं आते, वो फिर नहीं आते
ज़िन्दगी के सफ़र में…

फूल खिलते हैं, लोग मिलते हैं
फूल खिलते हैं, लोग मिलते हैं मगर
पतझड़ में जो फूल मुरझा जाते हैं
वो बहारों के आने से खिलते नहीं
कुछ लोग एक रोज़ जो बिछड़ जाते हैं
वो हजारों के आने से मिलते नहीं
उम्र भर चाहे कोई पुकारा करे उनका नाम
वो फिर नहीं आते…

आँख धोखा है, क्या भरोसा है
आँख धोखा है, क्या भरोसा है सुनो
दोस्तों शक दोस्ती का दुश्मन है
अपने दिल में इसे घर बनाने न दो
कल तड़पना पड़े याद में जिनकी
रोक लो रूठ कर उनको जाने न दो
बाद में प्यार के चाहे भेजो हजारों सलाम
वो फिर नहीं आते…

सुबहो आती है, रात जाती है
सुबहो आती है, रात जाती है यूँ ही
वक़्त चलता ही रहता है रुकता नहीं
एक पल में ये आगे निकल जाता है
आदमी ठीक से देख पाता नहीं
और परदे पे मंज़र बदल जाता है
एक बार चले जाते हैं जो दिन-रात, सुबहो-शाम
वो फिर नहीं आते…