Phir Wohi Raat Hai Khwab Ki ( फिर वही रात है ख्वाब की )lyrics

Phir Wohi Raat Hai Khwab Ki lyrics

Film- Ghar
Singer- Kishore Kumar
Music Director- R D Burman
Lyricist- Gulzaar

phir vahee raat hai
phir vahee raat hai khwaab kee
raat bhar khwaab mein dekha karenge tumhe
phir vahee raat hai…

kaanch ke khwaab hain, aankhon mein chubh jaayenge
palkon pe lena inhe, aankhon mein ruk jaayenge
ye raat hai khwaab ki, khvaab ki raat hai
phir vahee raat hai…

maasoom see neend mein, jab koi sapna chale
hamko bula lena tum, palkon ke parde tale
ye raat hai khwaab ki, khwaab ki raat hai
phir vahi raat hai…

Phir Wohi Raat Hai Khwab Ki lyrics ( in Hindi )

फिल्म – घर
गायक- किशोर कुमार
संगीतकार- राहुलदेव बर्मन
गीतकार- गुलज़ार

फिर वही रात है
फिर वही रात है ख्वाब की
रात भर ख्वाब में देखा करेंगे तुम्हें
फिर वही रात है…

काँच के ख्वाब हैं, आँखों में चुभ जायेंगे
पलकों पे लेना इन्हें, आँखों में रुक जायेंगे
ये रात है ख्वाब की, ख्वाब की रात है
फिर वही रात है…

मासूम सी नींद में, जब कोई सपना चले
हमको बुला लेना तुम, पलकों के पर्दे तले
ये रात है ख्वाब की, ख्वाब की रात है
फिर वही रात है…